Braj Ki Leela

ब्रज धाम मुख्य रूप से वन संस्कृति है। जैसा कि स्कंद पुराण में उल्लेख किया गया है, पृथ्वी पर धूल के कण की गिनती करना संभव हो सकता है, लेकिन ब्रज में पवित्र स्थानों की संख्या को गिनना असंभव है। एक बार श्री कृष्ण स्वयं और राधारानी के अवतार के समय, श्री यमुना जी से धरती पर जाने का अनुरोध किया।

यत्र वृन्दावनं नास्ति न यत्रा यमुना नदी 
यत्र गोवर्धनो नास्ति तत्र में न मनह सुखम 
- गर्ग संहिता

जैसा श्री राधा रानी ने कहा: मेरा हृदय ऐसे स्थान पर खुश नहीं हो सकता है जहां कोई वृंदावन, यमुना नदी नहीं है, और कोई गोवर्धन पर्वत नहीं है। इसलिए श्री यमुना जी, वृंदावन धाम और गोवर्धन गोलोक से आए हैं। उसके बाद बिरिजा नदी का पानी उसमें डाला गया। श्रीकृष्ण ने फिर अपनी 84 उंगलियों के आकार में रज लिया। यह रज 84 कोस (252 किलोमीटर) के क्षेत्र में यमुना नदी में फैली है। बिरिजा नदी और गोलोक धाम के रज के मिश्रण के स्वरुप में इसका नाम 'ब्रज' रखा गया। इस क्षेत्र में 12 वन, 24 उपवन, 20 कुंड और गांव अर्थात् नंदगांव, बरसाना, गोवर्धन, वृंदावन, मथुरा, कोसी, राधा कुंड आदि हैं। ब्रज के निर्माण के बाद भगवान कृष्ण ने गोलोक धाम में सभी वृक्षों, पक्षियों आदि को भी ब्रज में आने के लिए अनुरोध किया। इस प्रकार ब्रज ने इस मृत्युलोक में गोलोक धाम से अवतरण लिया ।

Braj Dham is predominantly a forest culture. As mentioned in Skanda purana, It may be possible to count the grains of dust on the earth, but it will not be possible to count the number of holy places in Braj. Once Shri Krishn requested Yamuna Ji to go to earth during the divine couple's descension here. 

"yatra vrindavanam nasti na yatra yamuna nadi yatra govardhano nasti tatra me na manah-sukham"
- Garg Samhita
As Shri Radha Rani said: My heart cannot be happy in a place where there is no Vrindavan, no Yamuna River, and no Govardhana Hill. 

So Shri Yamuna Ji, Vrindavan Dham and Goverdhan came directly from Golok. After that Water of river, Birija was poured into it. Shri Krishna then took the sand (Raj) to the size of his 84 fingers. This sand was spread across river Yamuna in the area of 84 Kos (252 Kilometers). Joining the name of river Birija and Raj of Golok Dham gave the name as Braj. In this area, there are 12 Vans (Forest), 24 Upvans (Gardens), 20 Kunds (Tanks) and village namely as Nand-Goan, Barsana, Govardhan Vrindavan, Mathura, Kosi, Radha Kund etc. After the city was created Lord Krishna requested all the trees, birds etc in Golok Dham to come to Braj and stay in there. This is how Braj appears in this world directly from Golok Dham.

noteCardsPeacock_1.jpg

VRINDAVAN GUIDE

ASHU SHARMA

Email: ashusharmaoct0@gmail.com

Phone: 9837127949, 7895895914

Bank Details: Click here

  • Facebook Social Icon
  • YouTube Social  Icon