Shri Katyani Mandir

Katyani Temple

The Arya Shashtra Adya Stotra mentions "Brijay Katyayani para", meaning that in Brij, where Vrindavan is situated, Goddess Katyayani is the deity for worship.Shrimad Bhagwat Puran mentions that Lord Vishnu directed “Yogmaya”, his ’Shakti‘, to appear in Brij as the daughter of Nandbaba and Yashodha before He himself was to be born there as Krishna avatar for the establishment of Dharma “righteousness” in this world.

कात्यायनी पीठ, वृन्दावन उत्तर प्रदेश के मथुरा नगर में स्थित है। भारतीय संस्कृति जहाँ जो कुछ उत्तम एवं शुभ है उसका संग्रह करने वाली है। 'सर्वेषाम् विरोधेन ब्रह्मकर्म समार-भे' को वाणी प्रदान करने वाली है। संकुचित भावना से दूर त्याग, संयम, वैराग्य, सेवा, प्रेम, ज्ञान आदि से सुरभित वातावरण में पली भारतीय संस्कृति समस्त संस्कृतियों का श्रृंगार है। 

ग्रीष्मकाल
प्रातः काल : 07:00 प्रातः से 11:00 प्रातः

संध्याकाल : 05:00 दोपहर से 08:00 रात्रि

शीतकाल
प्रातः काल : 07:00 प्रातः से 11:00 प्रातः

संध्याकाल आरती : 04:00 दोपहर से 07:30 रात्रि